राज्य

अगस्त में सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में उल्लेखनीय सुधार

अगस्त में देश के सेवा क्षेत्र की गतिविधियों में जुलाई के मुकाबले काफी अधिक सुधार देखने को मिला हालांकि, कोविड-19 से जुड़ी पाबंदियों की वजह से मांग और बिजनेस ऑपरेशन्स के प्रभावित होने की वजह से इसमें अगस्त में भी संकुचन देखने को मिला। गुरुवार को जारी एक मासिक सर्वेक्षण में ऐसा कहा गया है। भारत का सर्विसेज बिजनेस एक्टिविटी इंडेक्स अगस्त में 41.8 पर पहुंच गया, जो जुलाई में 34.2 के स्तर पर था। यह मार्च, 2020 के बाद का सर्विस सेक्टर से जुड़ा सबसे बेहतर आंकड़ा है। हालांकि, अगस्त में लगातार छठे महीने सर्विस सेक्टर की गतिविधियों में संकुचन देखने को मिला

उल्लेखनीय है कि आईएचएस मार्किट इंडिया सर्विसेज परचेजिंग मैनेजर्स इंडेक्स के मुताबिक इंडेक्स पर 50 से ऊपर का डेटा वृद्धि, जबकि उससे नीचे का डेटा संकुचन को दिखाता है। 

आईएचएस मार्किट में अर्थशास्त्री श्रेया पटेल ने कहा कि अगस्त भारत के सर्विस सेक्टर में ऑपरेशन्स के लिहाज से एक और चुनौतीपूर्ण महीने को दिखाता है। पटेल ने कहा कि घरेलू और विदेशी दोनों बाजारों में लॉकडाउन से जुड़ी पाबंदियों की वजह से उद्योग की सेहत पर असर देखने को मिला है। 

सर्वे में कहा गया है कि बाजार में नए बिजनेस और उत्पादन दोनों में संकुचन जारी रहा। हालांकि, संकुचन अप्रैल और मई के मुकाबले धीमा रहा। वहीं, पाबंदियों की वजह से लंबित कार्य रिकॉर्ड स्तर तक बढ़ गए हैं। 

रोजगार को लेकर बात की जाए तो बिजनेस गतिविधियों में कमी आने से भारतीय सर्विसेज सेक्टर कम क्षमता के साथ ऑपरेट कर रहा है। इसकी वजह से कंपनियों में लगातार छठे महीने छंटनी का दौर जारी रहा।

Related Articles