राजनीतिराज्य

AAP से राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने उप राष्ट्रपति से की CM योगी आदित्यनाथ की शिकायत

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा सदस्य तथा उत्तर प्रदेश के प्रभारी संजय सिंह ने उत्तर प्रदेश में अपने ऊपर राजद्रोह का केस दर्ज होने से बेहद आहत हैं। संजय सिंह ने मानसून सत्र में इस प्रकरण की शिकायत सभापति, उप राष्ट्रपति वैंकैया नायडू से की है। इस बाबत संजय सिंह ने एक ट्वीट भी किया है।

राज्यसभा सदस्य संजय सिंह ने कहा कि क्या उच्च सदन राज्यसभा में बैठने वाला सदस्य देशद्रोही है। अगर योगी आदित्यनाथ सरकार यह मानती है तो मुझे जेल में डलवा दे। उन्होंने ट्वीट किया कि योगी आदित्यनाथ के कोरोना घोटाले का मुद्दा मैंने राज्य सभा में उठाया तो योगी आदित्यनाथ ने मेरे ऊपर ‘देशद्रोह’ लगा दिया। संसद में मैंने सभापति जी से कहा कि अगर मैं देशद्रोही हूं तो मुझे जेल भेजिये। मेरे उत्तर प्रदेश में इस कदम पर कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, शिवसेना, राष्ट्रीय जनता दल, सीपीएम, तृणमूल कांग्रेस व डीएमके ने मेरा साथ दिया। सभापति जी उत्तर प्रदेश सरकार के इस कदम के प्रकरण में सदन को कार्यवाही का भरोसा दिया |

संजय सिंह ने सभापति से शिकायत की है। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ की शिकायत संजय सिंह ने उपराष्ट्रपति से की है। उन्होंने उत्तर प्रदेश में कोरोना किट की खरीद में घोटाले का ब्यौरा सभापति को दिया है। संजय सिंह सभापति के पास उत्तर प्रदेश में ब्राह्मण हत्याओं का ब्योरा लेकर गए थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सर्वे कराने पर मेरे ऊपर देशद्रोह का केस लगा है। सभापति ने संजय सिंह को कार्रवाई का आश्वासन दिया है। संजय सिंह ने मानसून सत्र में इस प्रकरण की शिकायत सभापति, उप राष्ट्रपति वैंकैया नायडू से की है। इस बाबत संजय सिंह ने एक ट्वीट भी किया है।

उत्तर प्रदेश सरकार के खिलाफ जातिगत सर्वे का ऑडियो बनवाने के आरोप में लखनऊ पुलिस ने आम आदमी पार्टी (आप) के राज्यसभा सदस्य व उत्तर प्रदेश प्रभारी संजय सिंह पर राजद्रोह का केस दर्ज किया है। लखनऊ की हजरतगंज कोतवाली में पहले से ही दर्ज मुकदमे में राजद्रोह के साथ साजिश रचने, धोखाधड़ी की धाराएं बढ़ाई गई हैं। साथ ही आइटी एक्ट भी लगाया गया है। पुलिस कमिश्नर सुजीत पांडेय ने बताया कि आम आदमी पार्टी के सांसद को पुलिस ने नोटिस भेजकर 20 सितंबर को पेश होने को कहा है। नोटिस में यह स्पष्ट लिखा है कि अगर संजय सिंह निर्धारित तिथि को आकर पक्ष नहीं रखते हैं तो उनके खिलाफ आगे की कार्रवाई की जाएगी। विभिन्न वर्गों में वैमनस्यता फैलाने व लोगों की भावनाओं को आहत करने के मामले में जांच के दौरान पुलिस ने पाया कि संजय सिंह व अन्य ने राज्य सरकार के खिलाफ साजिश रची है। यही नहीं आरोपितों ने जालसाजी करके सरकार की छवि धूमिल करने का भी प्रयास किया था।

संजय सिंह के साथ ही सर्वे करने वाली निजी कंपनी के तीन निदेशकों पर भी राजद्रोह तथा धोखाधड़ी की धारा बढ़ाई है। हाल ही के दिनों में संजय सिंह के खिलाफ विभिन्न टिप्पणियां करने के मामलों में लगभग 13 मामले दर्ज किए गए हैं।

संजय सिंह ने खुद ही किया था स्वीकार

आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने अपने ट्विटर के माध्यम से बताया कि इस जातिगत सर्वे का आयोजन उन्होंने ही करवाया है। उन्होंने एफआइआर की जांच में पैसा बर्बाद नहीं करने की सलाह देते हुए कहा कि योगी आदित्यनाथ सरकार को जो पूछना है उनसे पूछे। 

Related Articles