उत्तर प्रदेशराज्य

हाकिम को ही गुमराह करती रही नगर की पुलिस

आतंकी मुस्तकीम उर्फ अबू यूसुफ की गिरफ्तारी के बाद सबक लेना तो दूर, पुलिस विस्फोट के बाद भी मामले पर पर्दा डालने से बाज नहीं आई। पटाखा बिक्री की लाइसेंस की आड़ में बारूद का ढेर बिछाने वालों पर अब तक शिकंजा नहीं कसा गया। इसका परिणाम गदुरहवा मुहल्ले में विस्फोट के रूप में सामने आया। श्रावस्ती निवासी किशोर की मौत व कई मकान ढहने के बाद भी नगर कोतवाली की पुलिस अपने हाकिम को ही घंटों गुमराह करती रही। जब पुलिस अधीक्षक ने फोरेंसिक टीम के साथ मौके का जायजा, लिया तो झूठी कहानी सामने आ गई। नगर कोतवाली क्षेत्र के गदुरहवा मुहल्ले में हुए धमाके की गूंज पुलिस के उच्चाधिकारियों तक भी पहुंच गई

11 घंटे बाद रात करीब नौ बजे बम निरोधक दस्ता व यूपी एटीएस की टीम बलरामपुर पहुंच गई। प्रभारी निरीक्षक राजित राम ने बताया कि दोनों टीमों ने विस्फोट के कारणों का पता लगाने के लिए घटनास्थल की गहनता से छानबीन शुरू कर दी है। हालांकि अब तक कोई उपकरण व अन्य सामान बरामद होने की पुष्टि नहीं हुई है।

अपना ही राग अलापती रही पुलिस

सीओ सिटी व प्रभारी निरीक्षक की रिपोर्ट पर पुलिस अधीक्षक ने पहले गैस सिलिंडर से हादसा होने के बयान का वीडियो सोशल मीडिया पर जारी कर दिया। जबकि मौके पर गैस सिलिंडर के अवशेष नहीं दिखे। साथ ही लोगों के घर की छतों पर पटाखा बनाने वाले कागज के टुकड़े बिखरे मिले। धुएं का गुब्बार बहुत दूर तक रहा। वहां मौजूद लोगों ने बारूद की गंध महसूस की, लेकिन पुलिस अपना ही राग अलापती रही। घटनास्थल पर पहुंचने के बाद एसपी ने अपना दूसरा वीडियो वायरल करते हुए विस्फोट बारूद से होने की बात कही। ऐसे में नगर कोतवाली की पुलिस की झूठी कहानी सामने आ गई।

बारूद बेचने वालों पर नहीं कसा शिकंजा

शहर से लेकर गांवों तक मनिहार की दुकानों पर बिना लाइसेंस के लहसुन व सुतली बम धड़ल्ले से बेचे जा रहे हैं। जिले में आतिशबाजी का सामान रखने के लिए 25 दुकानों को ही लाइसेंस दिया गया है। जहां से हर साल 350 किलोग्राम से अधिक बारूद की बिक्री की जाती है। आतंकी मुस्तकीम के पकड़े जाने के बाद दिल्ली पुलिस व यूपीएटीएस ने स्थानीय पटाखा विक्रेताओं से पूछताछ भी की, लेकिन जिले की पुलिस अब तक सोती रही।

यह था मामला 

नगर कोतवाली क्षेत्र के गदुरहवा मुहल्ला निवासी मोहम्मद रजा के मकान में सोमवार सुबह जोरदार विस्फोट हुआ। धमाका इतना तेज था कि उसकी गूंज से शहर थर्रा उठा। विस्फोट में मोहम्मद रजा व पड़ोसियों का मकान ढह गया है। विस्फोट में उसके भांजे ननकन पुत्र शहादत अली निवासी समगरा थाना इकौना जनपद श्रावस्ती की दर्दनाक मौत हो गई। जबकि मोहम्मद रजा की पत्नी सुभरा व बेटी रूबी गंभीर रूप से घायल हैं। साथ ही कई अन्य लोग मामूली रूप से घायल हुए हैं। मोहम्मद रजा के भाई अकरम के नाम पटाखा बिक्री का लाइसेंस है। जिसकी आड़ में घर में पटाखा बनाते समय दुर्घटना हुई है। जबकि अकरम ने विस्फोट का कारण गैस सिलिंडर फटना बताया है। पुलिस ने अकरम को गिरफ्तार कर लिया है।

Related Articles