उत्तर प्रदेशराज्य

बुंदेलखंड को जैविक खेती का रोल मॉडल बनाया जाएगा

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार देश के सामने बुंदेलखंड को विकास के अभिनव मानक के रूप में स्थापित करना चाहती है। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे, डिफेंस कॉरिडोर और पर्यटन विकास के विभिन्न कार्यों के साथ हम बुंदेलखंड को जैविक खेती का केंद्र बनाना चाहते हैं इससे जहरीली रासायनिक खादों से मुक्ति तो मिलेगी ही, उत्पाद की कीमत अधिक मिलने से किसान भी खुशहाल होंगे। कृषि विभाग के अधिकारियों को उन्होंने यहां के किसानों को जैविक और जीरो बजट कृषि के प्रति जागरूक करने के लिए कहा। इससे बुंदेलखंड को अन्ना प्रथा से निजात मिलेगी और किसान अच्छे नस्ल के गोवंश पालने के लिए प्रेरित होंगे। इससे देश में बुंदेलखंड की नई पहचान भी बनेगी।

शुक्रवार को अपने सरकारी आवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से चित्रकूट धाम मंडल के विकास कार्यों की जिलावार समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि बुंदेलखंड ‘आत्मनिर्भर भारत’ अभियान का महत्वपूर्ण हिस्सा है। डिफेंस कॉरिडोर का एक नोड चित्रकूट में है। बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे से इस पिछड़े माने जाने वाले क्षेत्र में विकास की गति तीव्र होगी। बुंदेलखंड के प्रत्येक घर के साथ हर खेत तक पानी पहुंचाने की प्रतिबद्धता दोहराते हुए उन्होंने कहा कि केन-बेतवा लिंक परियोजना के अमल में आने पर यह संकल्प पूरा होगा। हम हर खेत तक पानी पहुंचाने में सफल होंगे। किसानों से सिंचाई की स्प्रिंकलर प्रणाली अपनाने की अपील के साथ उन्होंने चंदेल राजाओं द्वारा बनवाये गए तालाबों व बावड़ियों के जीर्णोद्धार की कार्ययोजना बनाने का निर्देश भी अधिकारियों को दिया

हमीरपुर व महोबा जिला अस्पताल अपग्रेड होंगे : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हमीरपुर और महोबा के जिला चिकित्सालयों को उच्चीकृत करने का निर्देश दिया है। उन्होंने कहा कि इसके लिए जिले के खनन कोष का इस्तेमाल करें। जो राशि कम पड़ेगी, वह शासन से उपलब्ध कराई जाएगी। उच्चीकृत 300 बेड वाले मंडलीय संयुक्त जिला चिकित्सालय, बांदा को पूरी गुणवत्ता के साथ तय समयावधि में पूरा करने और हमीरपुर में एल-3 कोविड अस्पताल स्थापित करने के निर्देश दिए गए।

धार्मिक पर्यटन पर फोकस : बांदा जिले की समीक्षा के दौरान उन्होंने गोस्वामी तुलसीदास की जन्मस्थली राजापुर और महर्षि वाल्मीकि की पुण्यस्थली लालापुर को जोडऩे की कार्ययोजना तैयार करने का निर्देश दिया। साथ ही जिलाधिकारी चित्रकूट को परिक्रमा मार्ग को सुविधाजनक बनाने की कार्ययोजना तैयार करने को भी कहा।

परियोजनाओं के लिए उपलब्ध कराएं भूमि : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने विकास परियोजनाओं से जुड़े प्रकरणों में तत्काल निर्णय लेकर जमीन की उपलब्धता सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया। विकास की गति को और तेज करने और सभी विकास कार्यों के साथ जनप्रतिनिधियों को जोड़ने पर भी बल दिया। कार्यों की गुणवत्ता के भौतिक सत्यापन के लिए टीम गठित करने का निर्देश दिया। यह सुनिश्चित करने के लिए कहा कि किसी भी पटल पर तीन दिन और विभागीय मुख्यालय में पत्रावलियां सात दिन से अधिक लंबित न रहें, अन्यथा जवाबदेही तय की जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *