उत्तर प्रदेशराज्य

महिला शक्ति केंद्र बनेगा महिलाओं की आवाज

महिलाओं को सशक्त बनाने की मुहिम में महिला शक्ति केंद्र उनकी आवाज बनेगा। महिलाओं को जागरूक कर उन्हें न केवल हर सरकारी योजना का लाभ दिलाया जाएगा, बल्कि जरूरत पड़ने पर केंद्र के सदस्य उनके साथ भी जाएंगे। इतना ही नहीं, घर या बाहर उन्हें कोई परेशान करता है तो भी टीम उनकी मदद को खड़ी होगी।

 

महिलाओं की आवाज बनेगा महिला शक्ति केंद्र

शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों की महिलाओं के लिए केंद्र और प्रदेश सरकार द्वारा कई योजनाएं चलाई जा रही हैं। जिले में करीब 20 लाख महिलाएं हैं। अब इसे जागरूकता की कमी मानें या फिर सिस्टम की लापरवाही, अधिकांश महिलाओं को योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाता है। वहीं घरेलू हिसा या फिर उत्पीड़न की शिकार महिलाएं खुद को अकेला पाकर अपनी आवाज नहीं उठा पाती हैं। ऐसी ही महिलाओं को उनका हक दिलाने के साथ ही उत्पीड़न करने वालों को सबक सिखाने के लिए ही बाल विकास एवं महिला कल्याण विभाग की तरफ से महिला शक्ति केंद्र संचालित किया जा रहा है। महिला कल्याण अधिकारी प्रियंका पांडेय के अनुसार प्रदेश और केंद्र सरकार द्वारा महिला सशक्तिकरण की योजना का हर महिला को लाभ दिलाना ही शक्ति केंद्र का उद्देश्य है।

महिलाओं को योजना का लाभ दिलाने के लिए महिला शक्ति केंद्र हर संभव प्रयास करता है। अगर किसी महिला की विभाग में सुनवाई नहीं होती है। कर्मचारी उसे परेशान रहते हैं या फिर कोई अन्य परेशानी है, तो वह भी महिला शक्ति केंद्र पर संपर्क कर सकती है। टीम संबंधित विभाग के अधिकारी से समन्वय स्थापित कर महिला की परेशानी दूर की जाती है। महिलाओं को समझाया जाता है कि वह खुद को कमजोर न समझें, अपने हक के लिए आगे आएं। मदद के लिए पहुंचेगी पुलिस

पीड़ित महिला की एक कॉल पर ही उसकी मदद को हाथ बढ़ेंगे। महिला हेल्प लाइन 181 पर फोन करते ही, उसकी कॉल को 112 पर ट्रांसफर कर दिया जाएगा। जिसके बाद उसकी मदद के लिए पुलिस टीम पहुंच जाएगी।

Tags

Related Articles