राष्ट्रीय

यह परीक्षा हॉल नहीं, सदन है ,एक-दूसरे के कान में फुसफुसाइए मत

राज्यसभा के सभापति वेंकैया नायडू ने मेंबर्स को कोरोना से बचाव के तरीकों का पालन करने को कहा है। सदन में शुक्रवार को वेंकैया ने शून्य काल के दौरान सांसदों को एक-दूसरे की सीट और टेबल ऑफिस पर जाने से मना कर दिया।

उन्होंने कहा- जब सेशन शुरू हो जाए तो किसी भी सदस्य को टेबल ऑफिस पर नहीं जाना चाहिए। इसके साथ ही ये भी अपील करता हूं कि एक-दूसरे की सीट पर जाकर, झुककर कान में फुसफुसाइए मत। ऐसा करने से बचिए। अगर कोई बात कहनी है तो स्लिप दीजिए। पर्ची की इजाजत परीक्षा भवन में नहीं होती है, पर यहां इसकी इजाजत है

चाय पीने पर भी नायडू ने दिया जवाब
जब एक सदस्य ने मजाकिया अंदाज में पूछा कि क्या चाय पीने के लिए जा सकते हैं, तो नायडू ने कहा कि आप अनौपचारिक तौर पर स्लिप भेज सकते हैं और इस मुद्दे पर जहां तक संभव हो सकेगा ध्यान दिया जाएगा। उन्होंने सदस्यों को अपने दफ्तर में ना आने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा कि लोगों से मिलना मुझे पसंद है, लेकिन मौजूदा हालात में तब, जब सुरक्षा मानकों का ध्यान रखा जाए।

सोशल डिस्टेंसिंग के लिए इस बार नई बैठक व्यवस्था
सत्र के दौरान अपर हाउस के मेंबर्स के लिए दोनों चेंबर और गैलरीज में बैठने की व्यवस्था की गई है। 1952 के बाद से भारतीय संसद के इतिहास में पहली बार इस तरह की व्यवस्था की गई है। लोकसभा में सिर्फ 200 सदस्यों के बैठने की व्यवस्था है। 30 सदस्य गैलरी में बैठ रहे हैं।

लोकसभा में ही एक बड़ा स्क्रीन लगाया गया है, जिसके माध्यम से राज्यसभा में बैठे लोकसभा के सदस्य भी नजर आ रहे थे। बाकी सदस्य राज्यसभा में बैठे। ऐसे ही राज्यसभा में बैठे सदस्य स्क्रीन के जरिए लोकसभा की कार्यवाही देख रहे थे।

Tags

Related Articles