उत्तर प्रदेशराज्य

एक साल से नहीं लगी स्ट्रीट लाइट

स्वतंत्रदेश,लखनऊ:शहर में स्ट्रीट लाइट लगाने के लिए पार्षद कोटा से पांच – पांच लाख रुपए जारी करने का प्रस्ताव सदन और कार्यकारिणी से पास हुआ था। करीब चार महीने गुजर गए लेकिन अभी तक स्ट्रीट लाइट लगने का काम नहीं शुरू हुआ है। इसकी वजह से शहर के ज्यादातर वार्ड में हर समय अंधेरा पसरा रहता है। शहर के 110 वार्ड मिलाकर साढ़े पांच करोड़ रुपए का बजट पास हुआ था। इससे करीब 7 से 8 हजार लाइट आनी थीं। लेकिन यह काम अधूरा रह गया है।

स्ट्रीट लाइट के लिए पैसा पास होने के बाद भी सड़कों पर अंधेरा पसरा रहता है।

इस्माईलगंज वार्ड के पार्षद समीर पाल सोनू का कहना है कि इसकी वजह से खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। उन्होंने बताया कि शहर का कोई भी ऐसा वार्ड नहीं है जहां इस तरह की कोई दिक्कत न आती हो। इसके अलावा पार्षद संतोष राय, अमिता सिंह, राम नरेश रावत, पंकज पटेल, अमित चौधरी, शैलेन्द्र सिंह बल्लू समेत कई लोग स्ट्रीट लाइट को लेकर आवाज उठा चुके हैं।

70 फीसदी शासन और 30 अमाउंट नगर निगम को देना था

करार के अनुसार ईईएसएल को होने वाले भुगतान में 70 फीसदी हिस्सा शासन और 30 फीसदी नगर निगम को करना था। लेकिन दोनों ही जगह से भुगतान नहीं हो पाया है। हालांकि कंपनी का कहना है कि शासन से पैसा मिलने की बात है । ऐसे में समस्या नगर निगम से ज्यादा है। इसके अलावा शासन स्तर पर मौखिक तौर पर नई लाइट लगाने से मना कर दिया गया है। वहीं, पार्षद बताते है कि वार्डों में अभी कई जगह अंधेरा रहता है। जनता उन लोगों से सवाल करती है। महात्मा गांधी वार्ड के पार्षद अमित चौधरी बताते है कि इसको लेकर वह लोग नगर आयुक्त से भी शिकायत दर्ज करा चुके है। लेकिन लाइट नहीं मिल रही है।

Related Articles