उत्तर प्रदेशराज्य

राजधानी में टूटा रिकॉर्ड, चौब‍िस घंटे में 1244 लोग हुए संक्रमित, 16 की गई जान- लखनऊ

बीते सारे रिकॉर्ड ध्वस्त करते हुए शुक्रवार को राजधानी में 1244 लोग कोरोना की चपेट में आ गए। यही नहीं 16 लोगों की कोरोना ने जान भी ले ली। साफ है कि तमाम तैयारियों और दावों के बावजूद राजधानी में कोरोना संक्रमण की रफ्तार पर लगाम नहीं लग पा रहा है। सर्विलांस एवं कान्टेक्ट ट्रेसिंग के आधार पर टीमों ने 7829 लोगों के नमूने लिए।

इंदिरानगर में कोरोना वायरस ने एक बार फिर अपना दायरा बढ़ा लिया है। संक्रमण के सबसे ज्यादा 65 मामले शुक्रवार को यहां दर्ज किए गए। अब तक इस इलाके में 52 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। वहीं, आलमबाग में 57 लोगों को वायरस ने अपनी चपेट में लिया है। अलीगंज 37, आशियाना 36, कैंट 23, कृष्णा नगर 27, गोमतीनगर 68, चिनहट 34, चौक 47, जानकीपुरम 49, ठाकुरगंज 42, तालकटोरा 32, रायबरेली रोड 52, मड़ियांव 37, महानगर 30, विकासनगर 37, हजरतगंज 41, सरोजनीनगर 10, हसनगंज 32, सुशांत गोल्फ सिटी 17 गोमती नगर विस्तार 17, काकोरी 10, फैजाबाद रोड 18 ,गुडंबा 14 व बाजार खाला में 21 मरीज संक्रमित मिले हैं।

राजधानी में 970 मरीजों ने वायरस को मात दी है। ठीक होने वालों मरीजों की संख्या अब तक का सबसे ज्यादा है। करीब 120 मरीजों का इलाज केजीएमयू, लोहिया, एरा, लोकबंधु, राम सागर मिश्र, टीएसएम, विवेकानंद समेत दूसरे अस्पतालों में चल रहा था। होम आइसोलेशन के मरीजों जिन्होंने तय समय पूरा कर लिया उन्हें भी संक्रमण मुक्त घोषित किया गया।

84 मरीजों ने एंबुलेंस लौटाई

शुक्रवार को 84 मरीजों ने एंबुलेंस को लौटा दिया। इन मरीजों ने घर पर ही आइसोलेशन का फैसला लिया है। कोवि सेंटर से मिली जानकारी के अनुसार ऐसे मरीज जिनको बुखार ,खांसी या डायबिटीज या अन्य कोई समस्या होती है हॉस्पिटल जाने की सलाह दी जाती है। इन मरीजों के हामी भरने के बाद ही एंबुलेंस भेजी जाती है । कुछ लोग जिन्हें हल्की-फुल्की समस्या होती है, बाद में ठीक महसूस करने लगते हैं एंबुलेंस लौटा देते हैं |

Tags

Related Articles