उत्तर प्रदेशराज्य

योगी ने टीम-11 की बैठक में भर्तियों की समीक्षा की, कहा- पारदर्शी तरीके से 6 माह में बांटे जाएं नियुक्ति पत्र

  • योगी ने अपने लोकभवन में अधिकारियों के साथ की बैठक
  • मुख्यमंत्री ने सभी विभागों से मांगा खाली पदों का ब्यौरा

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को टीम-11 की बैठक में यूपी में अब तक हुई भर्तियों की समीक्षा की। इस दौरान योगी ने अधिकारियों को सख्त निर्देश देते हुए कहा कि अब तक हुई 3 लाख भर्तियों की तरह ही पारदर्शी तरीक़े से अगले तीन महीने में भर्ती प्रक्रिया शुरू की जाए और छह महीने में नियुक्ति पत्र बांटे जाएं।

बताया जा रहा है कि सीएम योगी जल्द ही सभी आयोगों और भर्ती बोर्डों के प्रमुखों से भी बैठक करेंगे। सरकारी भर्तियों को लेकर सीएम योगी ने कहा कि जिस प्रकार यूपी लोकसेवा आयोग एवं अन्य सरकारी भर्तियां हुई हैं उसी पारदर्शी व निष्पक्ष तरीके से तेजी से आगे सभी भर्तियां कराई जाएं।

सरकार का दावा है कि, अब तक हुई बड़ी सरकारी भर्तियों में एक लाख 37 हजार पुलिस की भर्ती हो चुकी है। 50000 टीचर की भर्ती हो चुकी है और एक लाख से अधिक अन्य विभागों में भर्तियां हो चुकी हैं। कोरोना कालखंड में भी सवा करोड़ लोगों को रोजगार दिया जा चुका है।

बेरोजगारी को लेकर पूरे यूपी में हुआ था प्रदर्शन

एक दिन पहले ही गुरुवार को विपक्षी पार्टियों सपा-कांग्रेस उत्तर प्रदेश के कई जिलों में बेरोजगारी के मुद्दे पर अपने अपने ढंग से प्रदर्शन किया था। लखनऊ, कानपुर, मुरादाबाद में सपा और कांग्रेस ने जोरदार प्रदर्शन किया। वहीं, प्रयागराज में सरकारी नौकरी में शुरुआती 5 साल संविदा कर्मचारी के रूप में काम करने के प्रस्ताव के विरोध में छात्र और युवा भी सड़कों पर उतरे। जिनका कांग्रेस ने समर्थन किया। इस दौरान पुलिस से झड़प के बाद पथराव हुआ था

Related Articles