राष्ट्रीय

कोरोना की वजह से सदन में अलग से बनाए गए नियम और कानून

देश में फैले कोरोना संक्रमण की वजह से इस बार के मानसून सत्र के लिए अलग से नियम और कानूम बनाए गए हैं। कोरोना की वजह से संसद सत्र में होने वाले प्रश्नकाल को नहीं रखा जाएगा। प्रश्नकाल के दौरान गैलरी में उपस्थित रहने वाले लोग भी नहीं रहेंगे। सदन के अंदर शारीरिक दूरी का पूरा ख्याल रखा जाएगा। प्रश्नकाल में किया गया यह बदलाव केवल मानसून सत्र के लिए है। लोकसभा सचिवालय की ओर से कह गया है कि शीतकालीन सत्र में प्रश्नकाल को पहले की तरह से रखा जाएगा।

कोरोना महामारी के दौरान संसद के मानसून सत्र की बैठकों की तैयारियां लगभग पूरी कर ली गई हैं। आगामी संसद सत्र की कार्यवाही में प्रश्न काल, प्राइवेट मेंबर बिल और शून्यकाल नहीं शामिल नहीं होगा। संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही सुबह और शाम की पारी में बारी-बारी से चलेगी। 

Related Articles